Header Ads

GPRS-EDGE-3G और 4G में क्या अंतर है




हम लोग हमेशा GPRS ,EDGE ,3G और 4G के बारे में बात करते हैं.लेकिन इनमे फर्क क्या है ये बहुत कम लोग ही जानते हैं तो आईये आज इस पोस्ट के दवारा ये जानने कि कोशिश करें कि इनमे क्या फर्क है.

4G को Fourth Generation या LTE यानी Long Term Evolution Technology भी कहते हैं, इसमें 2G या 3G के मुकाबले कई गुना तेज़ 100 MBPS तक की Browsing speed मिलती है. 4G LTE Techology से यूजर एक High Definition Film को तीन मिनट से पांच मिनट में डाउनलोड कर सकते हैं. वहीं 3G पर Maximum speed 10 MBPS तक जाती है, यानी आप जिस फिल्म को 4G पर तीन मिनट में डाउनलोड कर रहे थे, वहीं 3G पर कम से कम 30 मिनट लगते हैं. LTE के 2 वर्जन हैं, पहला है TD (Time division) LTE और दूसरा FD (Frequency division) LTE. भारत में TD LTE चलता है.


GPRS--इसे हम 2G Network भी कहते हैं, जिसमें Basic data speed 56 kbps तक होती है.

EDGE--इसका पूरा नाम Enhanced Data rates for GSM Evolution है ये Technology 2G से थोड़ी Advance है और इसमें 2 G के मुकाबले ज़यादा तेज़ी से Data transfer होता है. EDGE Network में डेटा लगभग 144 kbps कि स्पीड से Transfer होता है.

3G--हमारे देश के कुछ ही Circles में 3G Network है.2जी के मुकाबले इसमें Data speed 1 से 21 mbps तक होती है.

4G--4G में Digital broadband packet पर बहुत तेज रफ्तार से आउटपुट मिलता है. इसकी स्पीड 100mbps से 1gbps तक की हो सकती है. हालांकि अधिकतर कंपनियां अधिकतम 100 mbps तक की स्पीड का दावा कर रही हैं.

सिम 4G LTE सर्विसेस लेने के लिए यूजर को पुराने सिम की बजाय नया यूसिम कार्ड या USIM यानी यूनिवर्सल सब्सक्राइबर आइडेंटिफिकेशन मॉड्यूल(Universal Subscriber Identification Module) में कनवर्ट करना होगा. USIM का मतलब है कि यूनिवर्सल सब्सक्राइबर आइडेंटिफिकेशन मॉड्यूल, जो कि करंट सिम से अलग होती है. इसमें एक इंटीग्रेटेड सर्किट होता है, जिसमें यूजर की International Mobile Subscriber Identity स्टोर होती है. नॉर्मल सिम केवल 2जी या 3जी नेटवर्क को सपोर्ट करता है, जबकि यूसिम 2जी, 3जी और 4जी नेटवर्क को सपोर्ट करता है. एक नॉर्मल सिम की मेमोरी 64 KB होती है, वहीं USIM की मेमोरी 128 KB होती है. हमारे देश में अभी 4G नेटवर्क पर Voice Service कि सुविधा उपलब्ध नहीं है यानि 4G का इस्तेमाल सिर्फ इंटरनेट के लिए ही किया जा सकता है.


अगर आप 4G डिवाइस खरीदने के बारे में सोच रहें हैं तो पहले ये पता कर लें कि आप के सर्किल में कौन सा नेटवर्क है TD या FD क्यों कि अगर आप ने ऐसा डिवाइस खरीद लिया जो TD को सपोर्ट करता है और आप के सर्किल में FD नेटवर्क है तो आप का डिवाइस काम नहीं करेगा.कई 4G डिवाइस दोनों नेटवर्क पर काम करते हैं उदाहरण के लिए iphone5 सिर्फ FD पर काम करता है जबकि iphone5C और iphone5S दोनों TD और FD नेटवर्क को सपोर्ट करता है. इस लिए 4G डिवाइस बहुत सोच समझ के खरीदें वैसे आने वाले वक़्त में ऐसे डिवाइस आयेंगे जो दोनों नेटवर्क को सपोर्ट करेंगे.

अंत में एक बात मेरे तरफ से "3G तो चल नहीं रहा है 4G क्या खाक चलेगा"
ये पोस्ट दैनिक भास्कर से प्रेरित है !

2 comments

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (07-07-2015) को "शब्दों को मन में उपजाओ" (चर्चा अंक-2660) पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

Blogger said...

There is a chance you are qualified to get a Apple iPhone 7.