ये पोस्ट उन भाईयों के लिए है जो इन्टरनेट की दुनिया में एक हिन्दी मंच की हमेशा तलाश करते रहते हैं !


आज पूरी दुनिया में फेसबुक और ट्विटर जैसे वेबसाइट कामयाबी की बुलंदियों पर हैं और इसका बहुत सारा श्रे हम भारतीयों को भी जाता है !आज गूगल और फेसबुक के छोटे से लेकर बड़े आधिकारी भारतीय ही है फिर भी एक बात समझ में नहीं आती है की इन्टरनेट की दुनिया में हमारी हिन्दी की कोई एक बड़ी सोसल साईट क्यों नहीं है !

हमारी आबादी १ अरब से ज़यादा है अगर हम चाहे तो १ मिनट में किसी भी सामाजिक वेबसाइट को फर्श से उठा के अर्श पर बिठा सकते हैं !

इसी की शुरुवात हिन्दुस्तान के कुछ हिन्दी पुत्रो ने हिम्मत कर के दिखाई है और एक हिन्दी मंच का निर्माण किया है जिसका नाम मूषक है !आज के डिजिटल युग में बदलती तकनीक के साथ हिंदी को लोगों से परिचित कराना होगा, ताकि लोग रोमन लिपि से पिछड़कर अपनी पहचान ना खो दें। आपको बताते चले कि जहां ट्विटर पर शब्दों की समय सीमा 140 शब्द हैं, वहीं मूषक पर इसे 500 रखा गया है।



मेरा मूषक के डेवलपर टीम से कोई लेना देना नहीं है लेकिन मैंने जब मूषक को ज्वाइन किया तब ये अहसास हुवा की इसकी जानकारी हर उस भारतीय को होना चाहिए जो इन्टरनेट का इस्तेमाल करता है ! इस लिए मै ये पोस्ट लिख रहा हूँ !




मेरी आप सब से ये गुजारिश है की आप कम से कम एक बार मूषक का इस्तेमाल ज़रूर करें और फिर अपने दोस्तों और पहचान वालो को भी बताएं !







1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here