हाल ही में भारत के supreme court ने एक बहुत चौकाने वाला फैसला सुनाया है ! आरक्षित वर्ग के लोगों को अब सिर्फ आरक्षित कोटे से ही सरकारी नौकरी मिलेगी ! अगर आरक्षित कोटे में सिट नहीं है तो आरक्षित वर्ग के लोगों को जेनरल कोटे से नौकरी नहीं मिलेगी !

supreme court ने अपने फैसले में इस बात को साफ़ कर दिया है की आरक्षित वर्ग के उमीदवार को उसके वर्ग में ही नौकरी दी जाएगी ,भले ही आरक्षित वर्ग के उम्मीदवार के नंबर सामान्य वर्ग के उमीदवार से ज़यादा क्यों न हो ! supreme court ने इस बात को भी कहा है की आरक्षित वर्ग के लोग आरक्षित वर्ग में आवेदन करते हैं और अगर किसी वजह से उन्हें वहां सिट नहीं मिलती है तो वो सामान्य वर्ग में सिट की मांग करते हैं !

supreme court ने ये साफ़ साफ़ कहा है की किसी भी कारण को बता के आरक्षित वर्ग के उमीदवार सामान्य वर्ग के कोटे से सिट नहीं मांग सकते हैं! 



supreme court ने ये फैसला क्यों दिया 

ये पूरा मामला एक महिला से जुड़ा है ! महिला ने लैब सहायक ग्रेड-2 के लिए आवेदन किया था जिसमे सिर्फ दो सीटें थी ,एक सिट आरक्षित वर्ग के लिए और दूसरी सिट सामान्य वर्ग के लिए ! आरक्षित वर्ग में महिला को 82 अंक मिले जब की इसी वर्ग में दुसरे उमीदवार को 93 अंक मिले ! इया तरह आरक्षित वर्ग में 93 अंक वाले उमीदवार को नौकरी मिल गई ! जब की दुसरे सामान्य वर्ग में मिनिमम कट-अफ अंक 70 था !

लेकिन किसी भी सामान्य वर्ग के उमीदवार को इतने अंक नहीं मिले ,इसी को आधार बना के आरक्षित वर्ग की महिला उमीदवार ने सामान्य वर्ग में नौकरी दिए जाने की मांग की ! महिला के इस मांग को सरकार ने ठुकरा दिया जिसके बाद मामला कोर्ट में गया और कोर्ट ने भी सरकार के पक्ष में फैसला सुनाया !


4 COMMENTS

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (25-04-2017) को

    "जाने कहाँ गये वो दिन" (चर्चा अंक-2623)
    पर भी होगी।

    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर…!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here