नमस्कार दोस्तों मेरे ब्लॉग hindi me पर आप सब का स्वागत है.football world cup शुरू होने में सिर्फ दो दिन ही बचे हैं. पूरे दुनिया मे फुटबाल प्रेमी इस 2018 fifa world cup के शुरू होने के इंतज़ार में हैं.football दुनिया का सबसे पुराना और प्रचलित खेल है.दुनिया मे सबसे ज़्यादा football को खेला ओर देखा जाता है.

fifa world cup 2018

फुटबॉल वर्ल्डकप का थ्रिल शुरू हो चुका है,दुनिया भर के फुटबॉल प्रेमियों का उत्साह चरम पर पहुच चुका है।सभी अपने फेवरेट खिलाड़ियों और टीमों को के खेल को देखने के लिए बेचैन हो रहे हैं.14 जून से फुटबॉल का महामुकाबला यानी 2018 fifa world cup शुरू होगा.

fifa world cup

 

fifa world cup 2018 में कितने देश हिस्सा लेते हैं

फुटबॉल वर्ल्डकप में दुनिया भर से 32 देश और उनके 736 खिलाड़ी हिस्सा लेते हैं.इन 736 फुटबॉल खिलाड़ियों में से अधिकतर दुनिया के अलग अलग क्लबों से खेलते हैं लेकिन जब फुटबॉल विश्व कप की बात आती है तो ये खिलाड़ी अपने देश की तरफ से खेलते हैं.ऐसे खिलाड़ी जो क्लबों से खेलते हैं उन्हें अपने देश की टीम में शामिल होने के लिए लगभग 3 हफ्तों का समय मिलता है.

जीपीएस से की जाती है जासूसी

फुटबॉल वर्ल्डकप को जीतने के लिए सारी टीमें जी जान लगा देती हैं. ऐसा नही है कि कोई भी टीम सिर्फ खिलाड़ियों के कारण विश्व विजेता बनती है.हर टीम को विजेता बनाने में एक बैकरूम टीम का सपोर्ट उतना ही होता है जितना ग्राउंड पर एक खिलाड़ी का.

 Backroom Team क्या है

किसी देश के सारे प्लेयर जब अपने क्लबों को छोड़ कर अपने नेशनल टीम में शामिल होते हैं तो उन सबको फिजिकली और मेंटली तैयार करने वाली टीम को Backroom Team कहा जाता है.एक हद तक किसी भी टीम के परफॉर्मेंस के ज़िम्मेदार बैकरूम टीम ही होती है.

 Backroom Team में कौन कौन होता है

किसी भी Backroom Team में लगभग 10 से 15 सदस्य होते हैं. इसके अलावा 10 से 12 लोग और दूसरे कामो के लिए भी होते हैं।लगभग हर एक खिलाड़ी के लिए एक सपोर्ट स्टाफ भी रखा जाता है.बैकरूम टीम का काम खिलाड़ियों को एक नेशनल टीम में बदलने का होता है.fifa world cup से पहले सारे खिलाड़ी अपने देश के बजाय क्लबों के लिए खेलते हैं.इन्हें मेंटली एकजुट करना और देश के लिए जी जान से खेलने के लायक बनाना Backroom Team के जिम्मे होता है,इसलिए बैकरूम टीम किसी भी टीम का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा होता है.

  • Team doctor
  • Performance coach
  • Psychologist
  • Soft tissue therapist
  • Lead Physiotherapist
  • Physical performance coach

किसी भी खिलाड़ी को नेशनल टीम में शामिल होने पर एक लिस्ट दी जाती है जिसमें कुछ सवाल होते हैं इनमें डाइट सोने जागने के पैटर्न किसी भी तरह के दर्द आदि से जुड़े हुए सवाल पूछे जाते हैं जिनका जवाब खिलाड़ियों को देना होता है और इनके जवाब देता है होता है किन खिलाड़ियों को कैसे और किस तरह की ट्रेनिंग देना है.

किसी भी टीम में शामिल होने वाले हैं सभी खिलाड़ियों की गतिविधियों पर 24 घंटे नजर रखी जाती है कोई भी खिलाड़ी सुबह उठने के बाद से रात में सोने तक कब-कब क्या-क्या करता है इन सारी चीजों पर निगरानी रखी जाती है.

क्लब से खेल कर आए हुए हैं सभी फुटबॉल खिलाड़ियों की गतिविधियों को GPS की मदद से ट्रैक किया जाता है.प्रेक्टिस से लेकर मैच में कोई खिलाड़ी कितना दौड़ा कितना चला उसकी एनर्जी कितनी खत्म हुई वह आगे और कितना अच्छा परफॉर्मेंस कर सकता है इन सारी बातों पर नजर रखी जाती है और इनका हिसाब किताब भी रखा जाता है.

fifa world cup

 

जैसा कि मैंने आपको ऊपर बताया है कि fifa world cup से पहले हैं सारे खिलाड़ी दुनिया के अलग अलग क्लब के लिए खेलते हैं लेकिन जब fifa world cup start होना होता है तो यह सारे खिलाड़ी अपने-अपने देशों में वापस आते हैं और अपने नेशनल टीम की तरफ से अपने देश के लिए खेलते हैं.जो खिलाड़ी क्लब सीजन में कम मैच खेल के आते हैं उनके लिए ट्रेनिंग शेडूल में ट्रेनिंग को थोड़ा कड़ा रखा जाता है जबकि अधिक मैच खेलकर आए खिलाड़ियों को रिफ्रेश करने पर जोर दिया जाता है यानी उन को कड़ी ट्रेनिंग से दूर रखा जाता है.

fifa world cup 2018,fifa 2018,2018 fifa world cup,fifa world cup 2018 telecast in india,
fifa world cup 2018 wallpaper hd,fifa world cup 2018 game,today match,

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here