Statue of Unity स्टैच्यू ऑफ यूनिटी की जानकारी

Share:




नमस्कार दोस्तों मेरे ब्लॉग hindi me आप का स्वागत है.दोस्तों आज का दिन बहुत ऐतिहासिक है,आज के दिन भारतीय राज्य गुजरात में सरदार सरोवर बांध से 3.2 किमी की दूरी पर साधू बेट नामक स्थान पर भारत के प्रथम उप प्रधानमन्त्री तथा प्रथम गृहमन्त्री वल्लभभाई पटेल का दुनिया में सबसे ऊँची मूर्ति Statue of Unity(स्टैच्यू ऑफ यूनिटी) की स्थापना की गई है.31 अक्टूबर को सरदार पटेल के जन्मदिवस के तौर पर मनाया जाता है इस लिए दुनिया की सबसे ऊँची प्रतिमा स्टैच्यू ऑफ यूनिटी का अनावरण आज के दिन किया गया है.

सरदार वल्लभभाई पटेल(Sardar Vallabhbhai Patel)

सरदार वल्लभभाई पटेल को कौन नहीं जानता है.आज आप जिस भारत को देखते हैं वो सरदार वल्लभभाई पटेल की देन हैं.सरदार वल्लभभाई पटेल ही वो भारतीय हैं जिन्होंने भारत के रजवाड़ों और नवाबो का विलय भारत में कराया था.अगर सरदार वल्लभभाई पटेल नहीं होते तो आज हम भारतीय जुनागड़ और हैदराबाद जैसे शहरों में जाने के लिए पासपोर्ट का उपयोग करते.Sardar Vallabhbhai Patel ने 562 देशी रियासतों का भारत में विलय कराया था.

Statue of Unity

सरदार वल्लभभाई पटेल का जन्म

आजाद भारत के पहले उप-प्रधानमंत्री और गृह मंत्री Sardar Vallabhbhai Patel का जन्म 31 अक्टूबर 1875 को गुजरात के नडियाद में हुआ था.साल 1928 में गुजरात में किसानों का सबसे बड़ा बारडोली सत्याग्रह हुआ था जिसका नेतृत्व वल्लभ भाई पटेल ने किया था.इसी आन्दोलन में वल्लभ भाई पटेल को सरदार की उपाधि दी गई थी.सरदार वल्लभभाई पटेल का आज़ादी में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका रहा है.सरदार वल्लभभाई पटेल को लोह पुरुष के नाम से भी जाना जाता है.




Statue of Unity - स्टैच्यू ऑफ यूनिटी की जानकारी

  • Staue of Unity को एकता की मूर्ति भी कहा जाता है.
  • स्टैच्यू ऑफ यूनिटी दुनिया की सबसे ऊँची मूर्ति है.
  • स्टैच्यू ऑफ यूनिटी का कुल वजन लगभग 1700 टन है.
  • 3 हजार करोड़ रुपये के लागत से इस प्रतिमा को बनाया गया है.
  • इस प्रतिमा पर कांसे की परत चढ़ाई गई है.
  • सरदार पटेल के इस प्रतिमा में लिफ्ट भी लगी है जिसके मदद से पर्यटक सरदार पटेल के हृदय तक जा सकेंगे.
  • सरदार वल्लभभाई पटेल की 182 मीटर ऊंची प्रतिमा स्टैच्यू ऑफ यूनिटी दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा है.
  • स्टैच्यू ऑफ यूनिटी की एक ख़ास बात ये है की दुनिया की ये सबसे ऊँची मूर्ति 6.5 तीव्रता के भूकंप को भी झेल सकती है.
  • इस स्टैच्यू को बनाने में 4 तरह के धातु का उपयोग किया गया है जिसमे 85 फीसदी तांबा है,इसलिए इसमें जंग नहीं लगेगी.
  • Statue of Unity को बनाने में लगभग 70 हजार टन सीमेंट और लगभग 24000 टन स्टील का उपयोग हुवा है.
  • इस प्रतिमा की उचाई अमेरिका की स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी से लगभग दोगुनी है.स्टैच्यू ऑफ यूनिटी को लगभग 7 किलोमीटर दूर से देखा जा सकता है.
  • इस मूर्ति को बनाने में लगने वाले लोहा को पूरे भारत के गाँव में रहने वाले किसानों से खेती के काम में आने वाले पुराने और बेकार हो चुके औजारों का संग्रह करके जुटाया गया.
दोस्तों आज सचमुच हर भारतीय के लिए गर्व की बात है.Statue of Unity का भारत की धरती पर बनना अपने आप में एक गर्व की बात है.Statue of Unity के बारे में आप की क्या राय है कृपया कमेन्ट कर के ज़रूर बताएं.अगर आप के मन में स्टैच्यू ऑफ यूनिटी को लेकर कोई सवाल है तो आप कमेन्ट कर के पूछ सकते हैं.