डार्क वेब किसे कहते हैं?क्या आपने कभी Tor Browser का इस्तेमाल किया है? - Hindi Me

डार्क वेब किसे कहते हैं?क्या आपने कभी Tor Browser का इस्तेमाल किया है?

Share:




Dark Web Kise Kahte Hain? Dark Web Kya Hota Hai?अगर आप को ऐसे सवालों के जवाब चाहिए तो hindime blog का ये पोस्ट आप के लिए है.आज के इस पोस्ट में मै आप को डार्क वेब किसे कहते हैं या डार्क वेब को कैसे ब्राउस किया जा सकता है के बारे में बताऊंगा.इन्टरनेट पर मौजूद Dark Web को देखने के लिए Dark Web Browser "Tor Browser" का उपयोग किया जाता है.हालांकि मैंने कभी टोर ब्राउज़र या डार्क वेब का उपयोग नही किया है।तो चलिए वेब और डार्क वेब के बारे में जानकारी देखते हैं.

इन्टरनेट की जानकारी

आप अपने मोबाइल और कंप्यूटर में जो इंटरनेट का उपयोग करते हैं और जितनी चीज़ें या वेबसाइट देखते हैं जैसे फेसबुक,गूगल,इंस्टाग्राम या और दूसरी बहुत सारी वेबसाइट ये इटरनेट का सिर्फ 5 प्रतिशत है बाकी 95 प्रतिशत इंटरनेट को डार्क वेब कहा जाता है जिसको मेरे और आप के जैसे नार्मल यूजर कभी एक्सेस नही करते हैं.डार्क वेब में वो सारे गैर कानूनी काम होते हैं जो समाज और इंसानियत के लिए हानिकारक माने जाते हैं।डार्क वेब में सबसे अधिक ड्रग्स का धंधा होता है.Dark Web Websites को एक्सेस करना कंप्यूटर सुरक्षा के लिए भी हानिकारक होता है।अगर आप के पास एक अच्छा VPN है तभी आप डार्क वेब का सुरक्षित उपयोग या सर्फिंग कर सकते हैं.

इंटरनेट को तीन हिस्सों में बांटा गया है

  • सरफेस वेब-Surface Web
  • डीप वेब-Deep Web
  • डार्क वेब-Dark Web

सरफेस वेब-Surface Web

ये इंटरनेट का वो हिस्सा है जिसका उपयोग हम लोग रोज़ाना करते हैं.गूगल,याहू,फेसबुक और बाकी दूसरे लाखों करोड़ों वेबसाइट जिनको हम अपने ज़रूरत के अनुसार सर्फिंग और ब्राउज़िंग करते हैं ये सारे के सारे सरफेस वेब में आते हैं.आम इंटरनेट यूजर सरफेस वेब को ही जनता है और उसका उपयोग करता है।सरफेस वेब के साइट को डीप वेब और डार्क वेब में भी सर्च और सर्फ किया जा सकता है लेकिन डीप वेब और डार्क वेब के साइट को सरफेस वेब में सर्फ नही किया जा सकता है.



डीप वेब-Deep Web

सरफेस वेब के बाद डीप वेब आता है.डीप वेब में ऐसे वेबसाइट आते हैं जो सर्च इंजन के डेटा बेस में नही होते हैं या उन्हें जान बूझ कर सर्च इंजन के डेटा बेस में नही रखा जाता है या सर्च इंजन को इन्हें इंडेक्स करने से रोक कर रखा जाता है.सर्च इंजन पर जितने भी वेबसाइट होते हैं उन पर पब्लिश कंटेंट दुनिया के देशों के कानून के अनुरूप होते हैं,लेकिन कोई ऐसा वेबसाइट है जिस पर लिखे कंटेंट कानूनन सही नही है तो ये वेबसाइट सर्च इंजन के डेटा बेस में इंडेक्स नही होगा बल्कि ये इंटरनेट के दूसरे लेयर डीप वेब में चला जायेगा.डीप वेब के वेबसाइट को एक्सेस करने के लिए आप के पास वेबसाइट का यूआरएल होना ज़रूरी है.सर्च इंजन में सर्च कर के आप डीप वेब के साइट को नही खोज सकते हैं क्यो की सर्च रिजल्ट में जितने भी वेबसाइट नज़र आएंगे वो सारे सरफेस वेब के होते हैं.

डार्क वेब-Dark Web

ये इंटरनेट का सबसे खतरनाक हिस्सा है यहां आप को दुनिया का सबसे खराब और बदनाम चीज़े मिलेंगी.यहां कोई कानून नही होता है यहां आप को मडर, नशा और हैकिंग जैसी चीज़े या जानकारियां बहुत आसानी से मिल जाएंगी.Dark Web Websites में वेश्यावृत्ति और नशे का कारोबार सबसे अधिक होता है यहां आप को दुनिया का हर वैध और अवैध नशा बहुत आसानी से मिल जाएगा.डार्क वेब का उपयोग एक आम इंटरनेट यूजर को कभी नही करनी चाहिए.जब आप किसी वेबसाइट को ओपन करते हैं या आप इंटरनेट सर्फिंग करते हैं तो आप का IP एड्रेस बहुत सारे लोग देख सकते हैं ऐसे में अगर आप का IP या दूसरा डेटा डार्क वेब एक्सेस के दौरान गलत हाथों में लग गया तो आप के लिए बड़ी मुसीबत खड़ी हो सकती है.डार्क वेब का उपयोग नार्मल ब्राउज़र के द्वार नही किया जा सकता है।डार्क वेब को सिर्फ Dark Web Browser Tor के द्वारा एक्सेस किया जा सकता है.




तो दोस्तों मुझे उम्मीद है की आप को Dark Web Browser और Dark Web Websites की ये जानकारी पसंद आई होगी.आप को Dark Web Kise Kahte Hain? Dark Web Kya Hota Hai? से जुड़ा अगर कोई सवाल है तो आप कमेन्ट कर के पूछ सकते हैं.नई नई तकनिकी जानकारी के लिए आप HINDIME BLOG को बुकमार्क और सब्सक्राइब करना मत भूलियेगा.

5 comments:

  1. Very Good & Most Important Post for me. Keep it up Broo..

    ReplyDelete
  2. Great Post Sir, This Articel Was Very Helpful For Me !

    ReplyDelete
  3. डार्क वेब के बारे में बहुत अच्छी जानकारी दी है आप ने।क्या आप ने कभी डार्क वेब उपयोग किया है?

    ReplyDelete

नई नई तकनिकी जानकारी,कंप्यूटर की जानकारी और मोबाइल की जानकारी के लिए HINDIME BLOG को बुकमार्क, सब्सक्राइब और निचे कमेन्ट करना मत भूलियेगा.